Read and Share

गंगा (Ganga River or Ganges River) भारत की सबसे महत्त्वपूर्ण नदी है। गंगा नदी भारत के लगभग एक तिहाई भौगोलिक क्षेत्र को सिंचित करती है, देश की एक प्रमुख एवं पवित्रतम नदी है| गंगा नदी को गंगा माता या गंगा जी जैसे सम्मानीय नामों से जाना जाता है| गंगा नदी को अन्य नामों से भी जाना जाता है :- विष्णुपदी, देवनदी, सुरसरी, त्रिपथगा, जहानवी, भागीरथी, इत्यादि|

यह भारत और बांग्लादेश में कुल मिलाकर 2525 किलोमीटर (कि॰मी॰) की दूरी तय करती हुई उत्तराखंड में हिमालय से लेकर बंगाल की खाड़ी के सुन्दरवन तक विशाल भू-भाग को सींचती है। देश की प्राकृतिक सम्पदा ही नहीं, जन-जन की भावनात्मक आस्था का आधार भी है। 2,071 कि॰मी॰ तक भारत तथा उसके बाद बांग्लादेश में अपनी लंबी यात्रा करते हुए यह सहायक नदियों के साथ दस लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल के अति विशाल उपजाऊ मैदान की रचना करती है।

Ganges
Ganga River Ganges River

भारत की सबसे बड़ी उत्तरायण गंगा बिहार के भागलपुर से होते हुए कटिहार ज़िले में प्रवेस करती है।भारत की सबसे बड़ी उत्तरायण गंगा का संगम त्रिमोहिनी संगम है। सामाजिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक और आर्थिक दृष्टि से अत्यंत महत्त्वपूर्ण गंगा का यह मैदान अपनी घनी जनसंख्या के कारण भी जाना जाता है। 100 फीट (31 मी॰) की अधिकतम गहराई वाली यह नदी भारत में पवित्र नदी भी मानी जाती है तथा इसकी उपासना माँ तथा देवी के रूप में की जाती है। भारतीय पुराण और साहित्य में अपने सौंदर्य और महत्त्व के कारण बार-बार आदर के साथ वंदित गंगा नदी के प्रति विदेशी साहित्य में भी प्रशंसा और भावुकतापूर्ण वर्णन किये गये हैं।

इस नदी में मछलियों तथा सर्पों की अनेक प्रजातियाँ तो पायी जाती ही हैं, तथा मीठे पानी वाले दुर्लभ डॉलफिन भी पाये जाते हैं। यह कृषि, पर्यटन, साहसिक खेलों तथा उद्योगों के विकास में महत्त्वपूर्ण योगदान देती है तथा अपने तट पर बसे शहरों की जलापूर्ति भी करती है। इसके तट पर विकसित धार्मिक स्थल और तीर्थ भारतीय सामाजिक व्यवस्था के विशेष अंग हैं। इसके ऊपर बने पुल, बांध और नदी परियोजनाएँ भारत की बिजली, पानी और कृषि से सम्बन्धित जरूरतों को पूरा करती हैं।

वैज्ञानिक मानते हैं कि इस नदी के जल में बैक्टीरियोफेज नामक विषाणु होते हैं, जो जीवाणुओं व अन्य हानिकारक सूक्ष्मजीवों को जीवित नहीं रहने देते हैं। गंगा की इस अनुपम शुद्धीकरण क्षमता तथा सामाजिक श्रद्धा के बावजूद इसको प्रदूषित होने से रोका नहीं जा सका है। फिर भी इसके प्रयत्न जारी हैं और सफ़ाई की अनेक परियोजनाओं के क्रम में नवम्बर,2008 में भारत सरकार द्वारा इसे भारत की राष्ट्रीय नदी तथा प्रयाग (प्रयागराज) और हल्दिया के बीच (1600 किलोमीटर) गंगा नदी जलमार्ग को राष्ट्रीय जलमार्ग घोषित किया है।

गंगा नदी के तट पर अनेकों तीर्थस्थल स्थित हैं| अपने उद्गम के पश्चात यह नदी ऋषिकेश, हरिद्वार, कानपुर, इलाहाबाद, वाराणसी, पटना आदि प्रमुख शहरों से होती हुई अंततः गंगासागर में समुद्र में विलीन हो जाती है|

Ganga in Haridwar
Ganga in Haridwar

गंगा नदी की प्रमुख सहायक नदियों में यमुना, रामगंगा, सोने, घाघरा, गोमती, टोंस, कोसी, गंडक, महानंदा इत्यादि प्रमुख हैं| इन नदियों के तटों पर पूरे वर्ष अनेकों धार्मिक मेलों का आयोजन किया जाता है| इन मेलों में हरिद्वार एवं इलाहाबाद में प्रत्येक 12 वर्ष के अंतराल पर लगने वाला कुम्भ मेंला प्रमुख है| इन मेलों में लाखों की संख्या में लोग स्नान करने आते हैं|

पुराणों में गंगा नदी के उद्गम के संबंध में अनेकों किवदंतियाँ प्रचलित हैं| प्रमुख किवदंती के अनुसार यह कहा जाता है कि गंगा नदी को महाराज भागीरथ अपने 60000 पूर्वजों के उद्धार के लिए घोर तपस्या करके गंगा नदी को पृथ्वी पर लाये थे| उन्हीं के नाम पर इसे भागीरथी के नाम से जाना जाता है| ऋग्वेद में गंगा नदी को पर्वतराज हिमालय की पुत्री बताया गया है| देवी भागवत में गंगा नदी को भगवान विष्णु की पत्नी बताया गया है| महाभारत में गंगा को महाराज शांतनु की पत्नी एवं भीष्म की माता बताया गया है| गंगा नदी को ऋषि जाहनु की पुत्री के रूप में वर्णित किया गया है|

River Ganga
River Ganga in Winter

गंगा नदी का आवाह क्षेत्र भारत, नेपाल, तिब्बत, एवं बांगलादेश में स्थित है| गंगा बेसिन उत्तर में हिमालय पर्वत श्रंखलाओं, पश्चिम मेम अरावली की पहाड़ियों, दक्षिण में विंध्या एवं छोटानागपुर प्लेटेउ एवं पूर्व में ब्रह्मपुत्र बेसिन से आच्छादित है| गंगा नदी का उद्गम समुद्र तल से 7010 मीटर की ऊंचाई पर स्थित गंगोत्री हिमनद के निकट उत्तरी अक्षांश 22 डिग्री 30 मिनट से 31 डिग्री 30 मिनट तथा पूर्वी देशांतर 73 डिग्री 30 मिनट से 89 डिग्री पर गौमुख नामक स्थल पर से होता है| यहाँ पर गंगा नदी को भागीरथी के नाम से जाना जाता है| देवप्रयाग में भागीरथी में अलकनंदा नदी के मिलने के पश्चात यह नदी गंगा नदी के नाम से जानी जाती है|

अपने उद्गम से गंगा सागर में प्रवाहित होने तक 2525 किलोमीटर की दूरी के मध्य गंगा नदी में यमुना, रामगंगा, सोने, घाघरा, गोमती, टोंस, कोसी, गंडक, महानंदा इत्यादि प्रमुख सहायक नदियाँ मिलती है| गंगा नदी विश्व की 41 वीं तथा एशिया की बीसवीं सबसे बड़ी नदी के रूप में जानी जाती है| गंगा नदी का कुल क्षेत्रफल 1,086,000 वर्ग किलोमीटर है|

Ganga Aarti
Ganga Aarti

गंगा नदी का वार्षिक निस्सरण 16,650 घनमीटर/सेकंड तथा सतही जल संभाव्य 525 बिलियन घन मीटर है| नदी का जल निकासी क्षेत्रफल 8,62,769 वर्ग किलोमीटर है, जो देश के कुल भौगोलिक क्षेत्रफल का 26.2% है| 1991 की जनगणना के अनुसार बेसिन में प्रति व्यक्ति जल उपलब्धता 1471 घन मीटर प्रति वर्ष है| भारत में गंगा नदी की संचयन संभाव्यता 8446 करोड़ घन मीटर एवं 60% भार पर जलविद्युत संभाव्यता 10715 मेगा वाट आँकी गई है|

गंगा नदी पर निर्मित जल संसाधन परियोजनाओं में गंगा नहर तंत्र, यमुना नहर तंत्र, टिहरी बांध,लखवार बांध, तपोवन विष्णुगढ़ परियोजना, रामगंगा बहूद्देशीय परियोजना, रिहंद बांध, जमरानी बहूद्देशीय परियोजना,राजघाट परियोजना, हलाली बांध, गांधीसागर बांध, राणा प्रताप सागर बांध, चंबल घाटी परियोजना, ओबरा बांध, रामसागर बांध, माताटीला बांध, पार्बती बांध इत्यादि प्रमुख हैं|

भारत की अन्य नदियों को जानने के लिए क्लिक करें